अब क्या होगा -साऊदी अरब का बहुत बड़ा फ़ैसला सबको हिला दिया

Saudi news

सऊदी अरब में एक मुहीम चलायी गयी जिसमे तुर्की के प्रोडक्ट्स का बहिस्कार किया गया और इस मुहीम ने पूरे सऊदी अरब में बहुत ही अच्छी प्रतिक्रिया दिखाई। आपको बता दे सऊदी अरब में सभी छोटी बड़ी कंपनियों ने इस मुहीम को चलाया और सभी कमर्शियल और इंडस्ट्रियल सुबो में भी तुर्की के प्रोडक्ट्स के बहिस्कार के लिए मुहीम चलायी गयी।

पिछले हफ्ते प्राइवेट सेक्टर में तुर्की के प्रोडक्ट्स के बहिस्कार के लिए जो मुहीम चलायी गयी थी उसकी जबरदस्त प्रतिक्रिया रही है। सऊदी चैम्बर्स और रियाध चैम्बर्स के कौंसिल के चेयरमैन अजलान अल – अजलान ने कहा की इस बहिस्कार का तुर्की की अर्थवयस्था पर करीब 20 बिलियन डॉलर का फरक पड़ेगा।

उन्होंने यह भी कहा की हमें लगता है की इस बहिस्कार से तुर्की के टूरिज्म पर भी असर पड़ेगा , आपको बता दे तकरीबन 15 लाख सऊदी टूरिस्ट का असर तुर्की में देखा जाएगा ,इसके साथ ही हजारो इन्वेस्टर्स का सभी सेक्टर्स में असर देखा जाएगा जबकि इम्पोर्ट में , टूरिज्म में और इन्वेस्टमेंट में इसका असर देखा जाएगा और यह सभी सेक्टर्स की और सभी सऊदी नागरिको की भी जिम्मेदारी है की सभी इस बहिस्कार का समर्थन करे जो हमारे देश के खिलाफ है और हमारी सरकार के खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि यह एक दूरदराज के गांव के सबसे छोटे स्टोर से सऊदी अरब के बड़े शहरों में सबसे बड़े स्टोर से तुर्की के उत्पादों का बहिष्कार करने के लिए है, जिसकी सऊदी अरब और उसके नागरिकों से दुश्मनी अब छिपी हुई बात नहीं है।

तुर्की के बहिस्कार का यह कदम कमापनियों से और रिटेल स्टोरों से आया है और आपको बता दे तुर्की के सभी प्रोडक्ट का बहिस्कार बहुत ही तेजी से फैला है और यह सब तुर्की के ज़रिये बनायीं गयी गलत पॉलिसीस जो सऊदी नागरिको और सऊदी सरकार के खिलाफ है।

सऊदी अरब में इस वक़्त तुर्की के सभी प्रोडक्ट का बहिस्कार पूरे उरूज़ पर है , सऊदी अरब में सभी कमपनीज़ , सेकड़ो रिटेल चेन्स ने इस मुहीम को शुरू किया हुआ है। कुछ रियल एस्टेट कम्पनिया भी और इलेक्ट्रॉनिक कमापनियों ने भी तुर्की के प्रोडक्ट का बहिस्कलर करने के लिए ऐलान भी कर दिया है और उन्होंने मीडिया से भी कहा है।

पूरे सऊदी अरब में सभी बड़ी कम्पनिया और फ़ैक्टरियो ने तुर्की के प्रोडक्ट का बहिस्कार करने का ऐलान किया है जिसमे अब्दुल लतीफ़ फर्नीचर , अल वातनिया मार्किट , अल काफरी फर्नीचर एंड कारपेट ग्रुप , तमीमी मार्किट , अल ओथाइम मार्किट , अस्त्र मार्किट एंड डेन्यूब सभी बड़ी कमनीय और फ़ैक्टरिया इस मुहीम को साथ लेकर चल रहे है।यह बहिस्कार ऐसे दौर में आया है , जिसमें तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तय्यब एर्डोगन की अध्यक्षता वाली सरकार में ये पॉलिसीस और और मिडिल ईस्ट के देशो में रेसेप तय्यब एर्डोगन का उन देशो के अंदरूनी मामलो में दखल अंदाजी करना , और इसी के चलते तुर्की की अर्थ्वय्स्था में भी गिरावट देखि गयी है और कई देश तुर्की की करेंसी लीरा का भी बहिस्कार कर रहे है जिसकी वजहसे तुर्की की अर्थव्यवस्था में गिरावट आ रही है।

सऊदी अरब ने जो तुर्की के प्रोडक्ट का बहिस्कार किया है इसका असर सभी तुर्की इन्वेस्टर्स और बिज़नेस टाइकून पर भी भारी असर पड़ा है और अब वो सभी एक सेफ रीजन में जाना चाहते है।

CSC के चेयरमैन अल – अजलान ने कहा की हम तुर्की के सभी प्रोडक्ट का , सभी कम्पनीज का , इन्वेस्टर्स का , टूरिज्म का , ट्रेड का , यंहा तक की तुर्की जोभी चीज़ जुडी हुई है उन सभी का बहिस्कार करते है और उन्होंने यह भी कहा की सऊदी अरब की कोई भी कंपनी तुर्की की किसी भी कंपनी से किसी भी प्रोडक्ट की सौदा नहीं करेगी। अजलान ने अपने ट्विटर हैंडल से कहा की हम किसी भी ऐसी कमपनी से सौदा नहीं करेगी जिसके तालुक तुर्की से हो और वो कंपनी सऊदी अरब में हो , यह हमारा सबसे कम् दर्जे की नफरत होगी जो हम तुर्की से करते रहेंगे , तुर्की ने हमारी सरकार की और सऊदी के नागरिको की बेइज्जती की है जिसको हम सहेंगे नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *